top of page

रसशास्त्र में उपयुक्त संज्ञाओंकी संख्या

महारस - रस शास्त्र में महारस की संख्या आठ मानी गयी है |


अभ्रक - Mica

वैक्रान्त - Tourmaline

माक्षिक - Pyrite

विमल - Iron Pyrite

शिलाजीत - Black Bitumen

सस्यक - Copper Sulphate

चपल - Bismuth

रसक - Calamine or Zinc



उपरस - उपरस की संख्या भी आठ मानी गयी है जोकि इस प्रकार है -


गन्धक - Sulphur

गैरिक - Ochre

कासीस - Green Vitriol

फिटकरी ( कांक्षी ) - Potash Alum

हरताल - Orpiment

मन:शिला - Realgar

अंजन - Collyrium

कंकुष्ठ - Ruhbarb


साधारण रस - यह भी संख्या में आठ बताये गए है


कम्पिल्लक - Kamila

गौरीपाषाण - Arsenic

नवसादर - Ammonium Salt

कपर्द ( कौड़ी ) - Marine Shell

अग्निजार ( अम्बर ) - Ambergris

गिरिसिंदूर - Red Oxide of Mercury

हिंगुल - Cinnabar

मृददारश्रृंग - Litharge


धातु वर्ग - धातु की संख्या सात बताई गयी है


सुवर्ण - Gold

रजत - Silver

ताम्र - Copper

लौह - Iron

नाग - Lead

वंग - Tin

यशद - Zinc


रत्न वर्ग - रतन की संख्या नो बताई गयी है -


माणिक्य - Ruby

मुक्ता ( मोती ) - Pearl

प्रवाल ( मूंगा ) - Coral

ताक्षर्य ( पन्ना ) - Emerald

पुखराज - Topaz

भिदुर ( हीरा ) - Diamond

नीलम - Sapphire

गोमेद - Zircon

वैदूर्य - Cat's eye


45 views0 comments

Recent Posts

See All

हरियाणा के तीर्थस्थल

मै जैसे ही कुरुक्षेत्र और पिहोवा दर्शन करके आया हु, मेरे दिमाग मे उसी स्थलों का विचार चल रहा था । मेरे इतिहास के अध्ययन मे जितने स्थल मुझे मिले थे उनके साथ गत ७ दिन और अध्ययन करके कुरुक्षेत्र, पिहोवा,

Commentaires


bottom of page